बिना नोटिस के डिजिटल वालंटियर ग्रुप से पत्रकारों को हटाया कुछ पुलिस के चहेते अभी भी जुड़े आखिर ऐसा क्यों ? - AIPA NEWS

आईपा ब्रेकिंग न्यूज़

उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश

उत्तर प्रदेश न्यूज़ उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश में चल रहा है जैसे औरैया,इटावा,कन्नौज,कानपूर देहात,कानपुर नगर,उन्नाव,लखनऊ,आगरा,शिकोहाबाद,टूंडला,फिरोजाबाद,आजमगण,जालौन,फतेहपुर,रायबरेली,काशगंज,फरुखाबाद,जशवन्तनगर,गाजियाबाद,बिन्दकी,

Music

Responsive Ads Here

WELCOME (AIPA)

आल इंडिया प्रेस एसोसिएसन में आपका स्वागत है जिसके रास्ट्रीय अध्यक्ष आदित्यशर्मा व् अनुराग सिंह है आईपा संगठन मे जुडने के लिये संपर्क करें मोब 9058832838,8318557393 मेल-aiptnews@gmail.com बेबसाइट-aipa.org.in

Saturday, August 29, 2020

बिना नोटिस के डिजिटल वालंटियर ग्रुप से पत्रकारों को हटाया कुछ पुलिस के चहेते अभी भी जुड़े आखिर ऐसा क्यों ?

 

अजितप्रतापसिंह लालू

जनपद कानपुर देहात में पुलिस द्वारा बिना नोटिस जारी किये व सूचना दिए बगैर ही कानपुर देहात के थाने के सभी डिजिटल बोलिंटर ग्रुप से  जनपद के सभी पत्रकारों को अपमान के साथ रिमूव कर दिये जाने से आम जनता व पत्रकारों में उबाल आ गया है जबकि पत्रकारों के लिए सरकार अपमान करने वालों को के लिए कड़ी से कड़ी सजा देने की बात कर रही है क्या इस अपमान को लेकर सरकार अपने दिए गए आदेशों का पालन करेगी

जनपद कानपुर देहात में करीब 15 थानों के डिजिटल वालंटियर ग्रुप से  जनपद के सभी पत्रकारों को बिना वजह बिना नोटिस के रिमूव कर दिए जाने से  एक अपने आप में सरकार के प्रति बहुत बड़ा सवाल खड़ा होता है  जिसको देखते हुए  पत्रकारों व आम जनता में  एक डिस्टल ग्रुप व सामाजिक ग्रुप से इस तरीके से अपमान कर निकाल दिए जाने से पत्रकारों में आक्रोश व्याप्त है  जिसके देखते हुए पत्रकारों ने  जब  प्रो  मीडिया सेल कर्मचारी से बात करनी चाही तो उन्होंने बताया कि यह ग्रुप एक डिस्टल वालंटियर जो कि मेंबर्स ग्रुप है इसमें केवल आम जनता ही रहेगी तो पुलिस द्वारा इसमें पत्रकारों को क्यों जोड़ा गया था और फिर  जब निकाला गया तो बिना नोटिस के एक  सम्मानित व्यक्ति को  इस तरह निकाला जाना  सरकार को कटघरे में खड़े करने के बराबर है उत्तर प्रदेश सरकार एक तरफ पत्रकारों को सम्मान देने की बात करती है वहीं सरकार की खाकी पत्रकारो को आए दिन सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों से अपमान कर रही है जिससे साफ तौर पर सिद्ध होता है की खाकी सरकार के निर्देशों का पालन नही बल्कि उल्लंघन कर रही है। जबकि कोरोना काल के समय में पीएम से लेकर सीएम तक सभी ने यह कहा था कि पत्रकारों के साथ कोई भी दुर्व्यवहार न किया जाए जबकि महामारी के समय पत्रकारों ने जान जोखिम में डालकर हर खबर को बारीकी से कवरेज कर शासन तक पहुंचाया है



No comments:

Post a Comment

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();

Post Top Ad

Responsive Ads Here